फर्जी नियुक्ति करने के मामले में डीपीओ व डिप्टी सीपीओ हुए निलंबित…

32

आजमगढ़: शासनादेश को दरकिनार कर फर्जी नियुक्ति करने और निर्देशों का समय से अनुपालन न करने पर डीएम राजेश कुमार की संस्तुति पर प्रमुख सचिव अनीता सी. मेश्राम ने जिला प्रोबेशन अधिकारी बीएल यादव व उप मुख्य परिवीक्षा अधिकारी ओमकारनाथ यादव को निलंबित कर दिया। साथ ही निलंबन की अवधि में डीपीओ व डिप्टी सीपीओ को निदेशालय महिला कल्याण लखनऊ में संबद्घ कर दिया है। इस कार्रवाई से विभागीय कर्मचारियों व अधिकारियों में हड़कंप सरीखा माहौल है।

मुख्य विकास अधिकारी आनंद कुमार शुक्ला ने बताया कि जिला प्रोबेशन अधिकारी बीएल यादव व उप मुख्य परिवीक्षा अधिकारी ओमकारनाथ यादव ने मिलीभगत कर गलत तरीके से नियुक्ति की थी। उन्होंने बताया कि प्रोबेशन अधिकारी बीएल यादव ने अपने ही भतीजे का कंप्यूटर ऑपरेटर के पद पर नियुक्ति करा दिया है। वहीं उप मुख्य परिवीक्षा अधिकारी ने भी अपने गांव के एक युवक की नियुक्ति कराई है। इतना ही नहीं प्रोबेशन अधिकारी द्वारा ‘रानी लक्ष्मीबाई महिला सम्मान कोष’ योजना के तहत वितरण में भी अनियमितता पाई गई। मुख्य विकास अधिकारी की जांच रिपोर्ट के बाद जिलाधिकारी राजेश कुमार ने निलंबन की कार्रवाई की संस्तुति कर शासन को रिपोर्ट भेजी थी। जिसे गंभीरता से लेते हुए राज्यपाल की आज्ञा से प्रमुख सचिव अनीता सी. मेश्राम ने जिला प्रोबेशन अधिकारी बीएल यादव व मुख्य परिवीक्षा अधिकारी ओमकारनाथ यादव को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया। इस बीच जीवन निर्वाह भत्ते की धनराशि अर्द्घ वेतन पर देय अवकाश वेतन की राशि के बराबर देय होगी।

 

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.