राजधानी में आयोजित बैठक में जनस्वास्थ्य रक्षकों ने उठाई मांग…

31

लखनऊ: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लखनऊ दौरे का स्वागत करते हुए जिलों से आए जनस्वास्थ्य रक्षकों ने कहा कि अब योगी सरकार को भी प्रधानमंत्री मोदी के दिखाए रास्ते को अपनाकर तत्काल जनस्वास्थ्य रक्षकों की बहाली की घोषणा कर देनी चाहिए। जिस प्रकार देश के प्रधानमंत्री ने किसानों का दिल जीत लिया है उसी प्रकार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को जनस्वास्थ्य रक्षकों की बहाली की अविलम्ब घोषणा करके उत्तर प्रदेश में भाजपा की विजय का मार्ग पर प्रशस्त करना चाहिए। कोरोना वॉलन्टियर के रूप में पूरे प्रदेश के जिला प्रशासन और मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालयों से प्रशंसापत्र प्राप्त कर रहे हजारों जनस्वास्थ्य रक्षकों और स्वैच्छिक स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को पूरा विश्वास है कि ग्रामीण क्षेत्रों की प्राथमिक चिकित्सा इकाई के रूप में उनके योगदान को स्वीकार करते हुए योगी आदित्यनाथ की सरकार आने वाले विधानसभा चुनावों की औपचारिक अधिसूचना से पहले उनकी बहाली की घोषणा जरूर कर देगी। रविवार को साकेतपल्ली में आयोजित समीक्षा बैठक में आये कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों ने प्रदेश में आने वाले विधानसभा चुनावों से पहले जनस्वास्थ्य रक्षकों की बहाली को सुनिश्चित बताते हुए पत्रकारों को जानकारी दी कि जनस्वास्थ्य रक्षकों की बहाली को लेकर परिवार कल्याण महानिदेशालय की औपचारिक विभागीय प्रक्रिया पूर्ण हो चुकी है और अब केवल प्रदेश शासन के निर्णय की प्रतीक्षा है।इस बैठक में मौजूद जनस्वास्थ्य रक्षकों के अनुसार राष्ट्रीय महासचिव मनोज कुमार और राष्ट्रीय अध्यक्ष धनीराम सैनी के नेतृत्व में गत डेढ़ दशक से चल रहे बहाली आंदोलन से जुड़े हजारों जनस्वास्थ्य रक्षकों के परिवार आज अधीरता से मुख्यमंत्री योगी के द्वारा बहाली की घोषणा की प्रतीक्षा कर रहे हैं।
ज्ञातव्य है कि पूर्ववर्ती सरकारों के कार्यकाल में जनस्वास्थ्य रक्षकों की बहाली उपरांत विभाग में उनकी पुनर्नियुक्ति संबंधी पत्रावली पर विचार तो प्रारंभ हुआ किंतु राज्य में सरकार बदलने के बाद ही योगी सरकार में परिवार कल्याण मंत्री रही रीता बहुगुणा जोशी ने जनस्वास्थ्य रक्षकों की बहाली को निर्णायक मोड़ तक पहुँचाया। बैठक में आये जनस्वास्थ्य रक्षकों ने बताया कि डोर टू डोर संक्रामक रोग नियंत्रण सेवा के रूप में जनस्वास्थ्य रक्षकों की भूमिका को यूनिसेफ और डब्ल्यूएचओ जैसे संगठनों की सराहना मिल चुकी है। अब जबकि उत्तर प्रदेश की जनता तीन माह बाद नयी सरकार चुनने जा रही है, ऐसे में प्राथमिक स्वास्थ्य सेवाओं को ग्रामीण दुर्गम इलाकों तक पहुँचाने हेतु गाँव देहातों से लेकर छोटे कस्बों और शहरों में फैले हजारों जनस्वास्थ्य रक्षकों की बहाली की घोषणा योगी सरकार को चमत्कारिक रूप से चुनावी बढ़त दिला सकती है। इस प्रक्रिया में लोकस्वास्थ्य के प्रति राज्य के मौजूदा स्वास्थ्य मंत्री जयप्रताप सिंह की प्रतिबद्धताओं का प्रदर्शन भी सामने आ सकेगा।
पत्रकार वार्ता में अलीगढ़ से आये देवेन्द्र कश्यप,देवरिया प्रतिनिधि अशोक यादव तथा झांसी मण्डल के शिशुपाल और हरदयाल आदि जनस्वास्थ्य रक्षक मौजूद रहे।

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.