टीम इंडिया को एक और हार कर देगी सीरीज से बाहर, दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीसरा टी-20 आज…

28

दिल्ली: भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच आज पांच मैचों की टी-20 सीरीज का तीसरा मुकाबला खेला जाएगा। यह मैच विशाखापट्टनम के डॉ. वाईएस राजशेखर रेड्डी क्रिकेट स्टेडियम में खेला जाएगा। टॉस शाम साढ़े छह बजे होगा और पहली गेंद शाम सात बजे फेंकी जाएगी।
सीरीज के पहले दोनों मैच गंवाने के बाद अब ‘करो या मरो’ की स्थिति में पहुंची भारतीय टीम जब तीसरे टी-20 में मैदान पर उतरेगी तो खराब फॉर्म में चल रहे स्पिनरों, सलामी बल्लेबाज ऋतुराज गायकवाड़ और रन बनाने के लिए जूझ रहे कप्तान ऋषभ पंत पर काफी दबाव होगा। भारतीय टीम के लिए पिछले दोनों मैचों में स्पिनरों ने निराश किया है।
भारत लगातार 12 मैच जीतकर इस सीरीज में उतरा था, लेकिन दक्षिण अफ्रीका की मजबूत टीम के सामने पहले दो मैचों में उसकी एक नहीं चली। पंत की अगुआई वाली टीम कई विभागों में संघर्ष कर रही है और उसे एक दिन के अंदर इन कमजोरियों को दूर करना था। यदि पहले मैच में भारत खराब गेंदबाजी के कारण हारा तो दूसरे मैच में बल्लेबाजों ने निराश किया।
भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच अब तक कुल 17 टी-20 मैच खेले गए हैं। इसमें से टीम इंडिया ने नौ मैच और दक्षिण अफ्रीकी टीम ने आठ मैच जीते हैं। भारतीय मैदान पर दक्षिण अफ्रीका का रिकॉर्ड और भी बेहतरीन है। यहां दोनों टीमों के बीच छह मुकाबले हुए हैं और दक्षिण अफ्रीकी टीम ने पांच मैच अपने नाम किए हैं। टीम इंडिया को सिर्फ एक मैच में जीत मिली है।
भारतीय सलामी बल्लेबाज अभी तक पावरप्ले में टीम को अच्छी शुरुआत देने में नाकाम रहे हैं। ईशान किशन ने अब तक अच्छा प्रदर्शन किया है, लेकिन ऋतुराज दो मैचों में केवल 23 और एक रन बना पाए हैं। तेज गेंदबाजों के सामने उनकी तकनीक पर सवाल भी उठने लगे हैं।
श्रेयस अय्यर ने अच्छी शुरुआत की है, लेकिन वह अपेक्षित तेजी से रन नहीं बना पाए हैं जिससे आगे के बल्लेबाजों पर दबाव बन रहा है। हार्दिक पंड्या ने पहले मैच में कुछ आक्रामक शॉट लगाए थे, लेकिन कटक के विकेट पर वह भी नहीं चल पाए थे। वह दोनों मैचों में गेंदबाजी में भी नाकाम रहे हैं।
केएल राहुल के चोटिल होने के कारण कप्तानी का जिम्मा संभालने वाले पंत अब तक दो मैचों में 29 और पांच रन बना पाए हैं। उन्होंने 45 टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में 23.9 की औसत और 126.6 के स्ट्राइक रेट से केवल तीन अर्धशतक बनाए हैं। उन्होंने इस प्रारूप में अब तक अपनी प्रतिभा के अनुरूप प्रदर्शन नहीं किया है।
कप्तान के रूप में पंत के फैसलों पर भी सवाल उठ रहे हैं। दूसरे मैच में अक्षर पटेल को दिनेश कार्तिक से पहले भेजने का निर्णय गलत साबित हुआ था। उनसे एक कप्तान और एक खिलाड़ी के रूप में अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद की जा रही है। गेंदबाजी में युजवेंद्र चहल और अक्षर की स्पिन जोड़ी ने अब तक निराश किया है।
डेविड मिलर, रसी वान डर डुसेन और हेनरिक क्लासेन जैसे बल्लेबाजों ने उनके खिलाफ आसानी से रन बनाए हैं। तीसरे मैच में इनमें से किसी एक को बाहर किया जा सकता है। टीम मैनेजमेंट युवा लेग स्पिनर रवि बिश्नोई या ऑलराउंडर वेंकटेश अय्यर को प्लेइंग-11 में जगह दे सकता है। वेंकटेश आईपीएल में पारी का आगाज भी करते रहे हैं।
भुवनेश्वर कुमार को छोड़कर भारतीय गेंदबाज विकेट लेने में असफल रहे हैं। भारतीय गेंदबाज एक या दो ओवरों में रन लुटाकर पहले की गई मेहनत पर पानी फेर दे रहे हैं। अब जबकि सीरीज दांव पर लगी है तब उन्हें हर हाल में अच्छा प्रदर्शन करना होगा। भारतीय टीम मैनेजमेंट ऐसे में अब तक एक भी विकेट नहीं लेने वाले आवेश खान की जगह तेज गेंदबाज उमरान मलिक या अर्शदीप सिंह को डेब्यू का मौका दे सकता है।
दूसरी तरफ दक्षिण अफ्रीका हर विभाग में अच्छा प्रदर्शन कर रहा है। उसके गेंदबाज विकेट निकाल रहे हैं और बल्लेबाज अच्छी साझेदारियां निभा रहे हैं। पहले मैच में मिलर और वान डर डुसेन ने कमाल दिखाया तो दूसरे मैच में क्लासेन ने 81 रन की विस्फोटक पारी खेली। गेंदबाजी में कगिसो रबाडा, एनरिक नॉर्त्जे और वेन पार्नेल अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं।

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.