राजकोट में सीरीज बराबर करने उतरेगी टीम इंडिया…

23

लखनऊ: दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पांच मैचों की टी-20 सीरीज का चौथा मैच भारत को राजकोट के सौराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम में खेलना है। टी-20 मुकाबलों में भारत का अब तक इस मैदान पर पलड़ा भारी रहा है। टीम इंडिया ने अब तक यहां तीन टी-20 मुकाबले खेले हैं, जिसमें उसने दो में जीत हासिल की है।
तीनों ही बार भारत ने यहां दूसरे नंबर पर बल्लेबाजी की है। भारतीय टीम इस सीरीज में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 1-2 से पिछड़ी हुई है। ऐसे में राजकोट में बेहतर रिकॉर्ड ऋषभ पंत की टीम का मनोबल बढ़ाने का काम करेगा। भारत और दक्षिण अफ्रीका पहली बार इस मैदान पर टी-20 में टकराएंगे।
विशाखापट्टनम में जीत के बाद भारत ने अपनी धरती पर सात मैचों में दक्षिण अफ्रीका पर दूसरी जीत हासिल की। उसे पांच मैंचों में हार मिली है। हालांकि, कुल 18 मुकाबलों में भारत का पलड़ा 10 जीत के साथ भारी है, जबकि दक्षिण अफ्रीका ने आठ मैच जीते हैं।
इस सीरीज में भुवनेश्वर कुमार ने शानदार गेंदबाजी करते हुए छह विकेट लिए हैं। कटक में खेले गए दूसरे मैच में उन्होेंने 13 रन पर चार विकेट लिए थे। राजकोट के मैदान पर भी उनका प्रदर्शन अच्छा रहा है। उन्होंने यहां दो मैच खेले है, जिसमें उन्होंने तीन विकेट लिए हैं। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 2013 में 35 रन पर तीन विकेट लिए थे। यह मैच भारत ने जीता था।
युजवेंद्र चहल ने भी विशाखापट्टनम में 20 रन पर तीन विकेट लेकर अपनी लय हासिल कर ली है। चहल का भी राजकोट में प्रदर्शन ठीक रहा है। उन्होंने भी यहां दो मैचों में तीन विकेट लिए हैं। बांग्लादेश के खिलाफ 2019 में उन्होंने 28 रन देकर दो विकेट लिए थे। यह मैच भी भारत ने जीता था।
श्रेयस अय्यर भी यहां दो मैच खेल चुके हैं। न्यूजीलैंड के खिलाफ 2017 में उन्होंने 23 और बांग्लादेश के खिलाफ उन्होंने नाबाद 24 रन की पारी खेली थी। न्यूजीलैंड के खिलाफ भारत को 40 रन से हार मिली थी। यहां कोलिन मुनरो ने 109 रन बनाए थे। कप्तान ऋषभ पंत बांग्लादेश के खिलाफ यहां खेले थे, लेकिन उन्हें बल्लेबाजी का मौका नहीं मिला था। उन्होंने एक कैच और एक रन आउट किया था।
कप्तान बनने के बाद पंत ने पहली जीत तो जरूर हासिल कर ली, लेकिन उनकी बल्लेबाजी चिंता का सबब बनी है। दिल्ली में उन्होंने जरूर 29 रन बनाए, लेकिन उसके बाद उन्होंने सिर्फ पांच और छह रन ही बनाए हैं। पंत इस वक्त नंबर चार पर बल्लेबाजी कर रहे हैं। कटक में उनका विफल होना भारत के हार में बड़ी वजह रही थी।

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.