वाराणसी: किसानों की गुहार, घूम जाय हवा-ना पड़े बौछार…

30

वाराणसी: उत्तर प्रदेश के वाराणसी जनपद में बनारस और आसपास के जिलों के किसान इस समय मां अन्नपूर्णा से गुहार लगा रहे हैं कि कुछ दिनों तक हवा का रूख सही रहे ताकि बादलों को उपद्रव करने का मौका न मिले क्योंकि गेहूं के रूप में ज्यादातर की मेहनत अभी खेत से खलिहान के बीच ही पड़ी है। तेज आंधी के साथ बूंदाबादी भी तेज हुई तो बहुत नुकसान की संभावना है। मौसम विभाग ने रविवार को बनारस और आसपास के जिलों में चमक-गरज के साथ बूंदाबादी की पूर्वानुमान कर रखा है। मौसम से जुड़े स्काईमेट का भी यही पूर्वानुमान है लेकिन उसके अनुसार पश्चिमी उत्तर प्रदेश में मौसम के बिगड़ने के आसार अधिक हैं।
फिलहाल शनिवार को धूप तीखी थी लेकिन शाम होते ही हवा का रूख पछुआ से पुरवा हो गया जिससे मौसम के खराब होने की संभावना बन चली है। स्काईमेट के अनुसार चक्रवाती हवा का एक क्षेत्र उत्तर-पूर्व मध्य प्रदेश और दक्षिण-पूर्व उत्तर प्रदेश के निकटवर्ती भागों में है। यह मौसम खराब होने का संकेत है।
वहीं शनिवार को अधिकतम तापमान 41 और न्यूनतम 23.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। आर्द्रता 28 प्रतिशत थी जबकि शुक्रवार को आर्द्रता 44 प्रतिशत थी। कोरोना कर्फ्यू के चलते सड़कों पर आवाजाही न के बराबर थी लेकिन तीखी गर्मी ने वैक्सीन लगवाने निकले लोगों को जरूर परेशान किया। कई केन्द्रों पर लोगों को धूप में ही अपनी बारी का इंतजार करना पड़ा। मौसम विभाग के अनुसार तीन मई को अधिकतम तापमान फिर बढ़ेगा। इसमें सात मई तक उतार-चढ़ाव दिखेगा।

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.