रेलवे बोर्ड का बड़ा फैसला, नियमित ट्रेनों के संचालन पर 12 अगस्त तक लगाई गई रोक…

0 50

दिल्ली: कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए बंद चल रहीं नियमित ट्रेनों का संचालन 12 अगस्त तक बहाल नहीं होगा। इन नियमित ट्रेनों में रेगुलर पैसेंजर, एक्सप्रेस व मेल ट्रेनों के साथ सबअर्बन ट्रेनों का संचालन भी शामिल हैं। हालांकि अभी चलाई जा रही सीमित संख्या में स्पेशल ट्रेनों का संचालन पूर्व की भांति होता रहेगा। गृह मंत्रालय की सलाह पर रेलवे बोर्ड ने यह फैसला कोरोना महामारी के प्रकोप को देखते देखते हुए एहतियातन लिया है।

भारतीय रेलवे ने एक सर्कुलर जारी कर कहा है कि नियमित पैसेंजर, मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों का संचालन 12 अगस्त तक बंद रहेगा। इस दौरान यात्रा के लिए जिन यात्रियों ने ट्रेन का टिकट लिया हो, वे रद हो जाएंगे और उसका पैसा उनके बैंक खातों में बिना किसी कटौती से वापस हो जाएगा। इस सर्कुलर में यह भी स्पष्ट किया गया है कि 12 मई और एक जून से चलाई जा रही स्पेशल ट्रेनों का संचालन पूर्ववत होता रहेगा। रेलवे बोर्ड ने 30 जून से 12 अगस्त के बीच की यात्रा के लिए बुक कराये गए एडवांस ट्रेन टिकटों को वापस करने का निर्देश अपने सभी जोनल आफिस को दे दिया है।

हालांकि लॉकडाउन के दौरान कराए गए सभी टिकट ऑनलाइन ही थे, लिहाजा सारे टिकटों का पैसा सीधे बैंक खातों में पहुंच जाएगा। कोविड-19 के प्रकोप के चलते देशव्यापी लॉकडाउन की घोषणा के साथ सभी हवाई उड़ानें और ट्रेनों का संचालन तत्काल प्रभाव से बंद कर दिया गया था। इसके चलते जो जहां था, वहीं फंस गया। ट्रेनों की आवाजाही पूरी तरह से रोक दी गई। कोरोना संकट के मद्देनजर देशभर में जनता कर्फ्यू लग गया।

भारतीय रेलवे के ताजा फैसले में कहा गया है कि रेगुलर ट्रेनों का संचालन का फैसला 12 अगस्त के बाद ही संभव है। दरअसल, अभी चलाई जा रही 230 स्पेशल ट्रेनों को भी यात्रियों की पूरी संख्या नहीं मिल पा रही है। पिछले दिनों रेलवे बोर्ड के चेयरमैन विनोद कुमार यादव कहा था कि चल रही स्पेशल ट्रेनें अपनी कुल यात्री क्षमता का 76 फीसद ही भर पा रही हैं। इससे स्पष्ट संकेत मिलने लगे थे कि फिलहाल अन्य ट्रेनों का संचालन संभव नहीं हैं।

इससे पहले 13 मई के अपने आदेश में रेलवे बोर्ड ने कहा था कि 30 जून तक रेग्लुलर ट्रेन की बुकिंग रद की जा रही है और इसमें यात्रियों को पूरा रिफंड मिलेगा। अब जबकि ट्रेन रद की तारीख बढ़ा दी गई है, तो रिफंड की सुविधा भी 12 अगस्त तक कर दी गई है। इस दौरान 12 मई से चालू स्पेशल राजधानी ट्रेन और 1 जून से चालू स्पेशल मेल/एक्सप्रेस ट्रेनें पहले की तरह चलती रहेंगी।

इससे पहले रेल मंत्रालय ने सोमवार को एक सर्कुलर जारी करते हुए सभी जोन को सूचित किया था कि 14 अप्रैल या उससे पहले बुक किए गए सभी टिकटों का रिफंड कर दिया जाए। अभी तक रेलवे ने 30 जून तक ही रेल सेवाओं को बंद करे की घोषणा की है। ताजा सर्कुलर में इसे 12 अगस्त तक कर दिया गया है।

रेलवे के नियमों के अनुसार अधिकतर 120 दिन पहले किसी ट्रेन का टिकट बुक कराया जा सकता है। अब जब रेलवे ने 14 अप्रैल और उससे पहले के सभी टिकटों का रिफंड करने को कहा है, यानी करीब 15 अगस्त से पहले तक की बुक सभी टिकटों के पैसे रिफंड हो जाएंगे। तो क्या रेलवे की ओर से ट्रेनें 15 अगस्त के बाद चलाई जाएंगी?

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.