महिला कांस्टेबल से दु‌र्व्यवहार के आरोप में मंत्री का बेटा गिरफ्तार…

132

गुजरात के सूरत में महिला कांस्टेबल से दु‌र्व्यवहार के आरोप में पुलिस ने मंत्री के बेटे को गिरफ्तार कर लिया है। सूरत में कर्फ्यू का उल्लंघन करने के मामले में स्वास्थ्य राज्यमंत्री किशोर कानाणी के पुत्र प्रकाश सहित सात युवकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस ने प्रकाश सहित तीन को रविवार को गिरफ्तार कर लिया है। इधर, इस घटना के बाद सूरत व अन्य शहरों में लोग वी सपोर्ट सुनीता यादव के बैनर लेकर प्रर्दशन भी किया। इससे पहले मंत्री ने अपने पुत्र का बचाव करते हुए कहा कि उनके खिलाफ राजनीति के साजिश की जा रही है।

उनके मुताबिक, वे सौराष्ट्र में मजबूत हैं और आगामी स्थानीय निकाय चुनाव को देखते हुए विरोधी उनको कमजोर करना चाहते हैं। उनके पुत्र ने भी महिला कांस्टेबल पर गाली-गलौज करने व वर्दी का रौब दिखाने का आरोप लगाया था। सोशल मीडिया में वायरल आडियो को एडिट कर चलाने का भी उनका आरोप है। कांस्टेबल सुनीता यादव शनिवार को इस्तीफा देने के बाद से भूमिगत हैं। पुलिस ने 188,269,144 आईपीसी की धारा के तहत केस दर्ज कर मंत्री पुत्र प्रकाश कानाणी सहित तीन को गिरफ्तार किया। ये घटना गत आठ जुलाई रात साढ़े दस बजे की बताई जा रही है। प्रकाश ने महिला कांस्टेबल की बात अपने मंत्री पिता से भी कराई, लेकिन सुनीता यादव नहीं मानी।

कानाणी ने विधायक लिखी कार लेकर आने पर ये बचाव किया कि मेरा बेटा है, वह विधायक लिखी मेरी कार का उपयोग कर सकता है। बाद में प्रकाश के साथियों ने सुनीता का अपमान करने का प्रयास किया तो वह बिफर गई और जमकर भला बुरा कहा। सुनीता ने जिस भाषा का प्रयोग किया, उस पर मंत्री कानाणी ने एतराज जताते हुए कार्रवाई की मांग की है। कर्फ्यू के दौरान सूरत के वराछा इलाके में बिना मास्क घूमने वाले युवकों के बचाव में आए राज्य के स्वास्थ्य राज्यमंत्री किशोर कानाणी के बेटे प्रकाश कानाणी व महिला कांस्टेबल सुनीता यादव के बीच तकरार का ऑडियो सोशल मीडिया में वायरल होने के बाद सूरत पुलिस आयुक्त ने घटना की जांच के आदेश दिए थे। इस घटना के बाद कांस्टेबल ने इस्तीफा सौंप दिया है। प्रकाश व उसके साथियों ने कांस्टेबल को धमकाया और दु‌र्व्यवहार किया।

सूरत में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के चलते प्रशासन व पुलिस रात्रि कर्फ्यू से लेकर हीरा व टेक्सटाइल बाजार बंद कराने जैसे सख्त कदम उठा रही है। ऐसे में मंत्री के बेटे बिना मास्क घूमते पकड़े गए अपने दोस्तों को छुड़ाने पहुंच गए। वराछा पुलिस थाने के प्वाइंट पर महिला कांस्टेबल सुनीता यादव ने इन युवकों को पकड़ा था। यहां इन युवकों ने महिला कांस्टेबल के साथ दु‌र्व्यवहार किया। मंत्री के बेटे प्रकाश कानाणी भी एमएलए गुजरात लिखी कार लेकर वहां पहुंचे और कांस्टेबल के साथ कहासुनी की। सूरत के पुलिस आयुक्त आरबी ब्रम्हभट्ट ने उपायुक्त स्तर के अधिकारी को जांच के आदेश दिए हैं।

गौरतलब है कि घटना के दौरान सुनीता ने पुलिस निरीक्षक बीएन सगर को इसकी जानकारी दी तो उन्होंने कहा कि उनका काम वहां डायमंड व टेक्सटाइल फैक्ट्री नहीं चलने देने का है, प्वाइंट पर किसी को रोकने का नहीं। घटना पर पूर्व मंत्री आइके जाडेजा का कहना है कि कानून अपना काम करेगा। उन्होंने किसी तरह की टिप्पणी से इन्कार कर दिया। कोरोना महामारी के चलते गुजरात में रात 10 बजे से सुबह पांच बजे तक कर्फ्यू और बिना मास्क पकड़े जाने पर 200 रुपये जुर्माने का प्रावधान है।

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.