भारतीय कंपनी बना सकती है दुनिया के लिए पहली कोविड-19 वैक्सीन, एक अरब वैक्सीन बनाने का मिला आर्डर…

0 40

वैश्विक महामारी कोविड-19 की पहली वैक्सीन कौन बनाएगा और वह किस देश को सबसे पहले मिलेगी यह एक यक्ष प्रश्न है। संभवत: यह उसी देश को सबसे पहले मिलेगी जो इसे सबसे पहले विकसित कर लेगा। भारत, ब्रिटेन, चीन और अमेरिका समेत विभिन्न देशों में इसके वैक्सीन का परीक्षण अलग-अलग स्तरों पर जारी है। एक भारतीय कंपनी को वैक्सीन बनाने का लाइसेंस मिल चुका है और यह संभवत: कोविड-19 की दुनिया भर में वैक्सीन हो सकती है।

अमेरिका के संक्रमण रोगों के सर्वोच्च विशेषज्ञ डॉ.एंथोनी फॉउसी ने गुरुवार को दावा किया है कि इस साल के अंत या अगले साल की शुरुआत में ही कोविड-19 की वैक्सीन आ जाएगी। कई अमीर देशों ने इन वैक्सीनों के लाखों के ऑर्डर पहले ही दे दिए हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन भी कोविड-19 की वैक्सीन के समुचित वितरण के लिए दिशा-निर्देश जारी कर रहा है। उदाहरण के तौर पर ब्रिटेन और अमेरिका ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के ओर से विकसित एस्ट्रा जेनेका की ओर से पुणे स्थित भारतीय वैक्सीन कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट इसका उत्पादन करेगी। इस भारतीय कंपनी को एक अरब वैक्सीन बनाने का आर्डर मिला है।

एस्ट्रा जेनेका इसी भारतीय कंपनी को संभवत: दुनिया की पहली संभावित वैक्सीन के उत्पादन के लिए लाइसेंस का अधिकार दे चुका है। सेरम इंस्टीट्यूट दुनिया का वैक्सीन का सबसे बड़ा उत्पादक है। कंपनी के मालिक अदार पूनावाला ने बताया कि जहां वैक्सीन से जुड़ा ज्यादातर ध्यान फार्मास्युटिकल डेवलपर को जाता है, भारत दुनिया भर में बेची जाने वाली वैक्सीन के उत्पादन में 60-70 फीसद की मुख्य भूमिका निभाता है। इसमें सीरम इंस्टीट्यूट की बड़ी भूमिका है। उन्होंने कहा कि वैज्ञानिक, ड्रग निर्माता और उत्पादक अद्वितीय स्तर पर सहयोग कर रहे हैं।

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.