बिहार में भारी बारिश से बाढ़ का खतरा, जानें-यूपी-एमपी-दिल्ली सहित अन्य राज्यों का हाल…

25

दिल्ली: पश्चिमी विक्षोभ के कारण उत्तर-पश्चिमी भारत में मानसून की तेजी में कमी आई है और उसे दिल्ली पहुंचने में 7 से 10 दिन का समय लग सकता है। मौसम विभाग के मुताबिक, दिल्ली में आज यानि बुधवार को आसमान में बादल छाए रहने के साथ हल्की से मध्यम बारिश और गरज के साथ 40-50 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलने का अनुमान जताया गया है। बिहार में मानसून अपने चरम पर है और रुक-रुककर लगातार बारिश हो रही है। यूपी में भी मानसून की एंट्री हो चुकी है और यहां भी बारिश देखने को मिली है। बिहार में बारिश की वजह से नदियां उफन रही हैं और एक बार फिर से बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है। फिलहाल, बिहार को बारिश से आज भी राहत नहीं मिलेगी। मौसम विभाग ने मानसून बुलेटिन में जानकारी दी है कि राजथान, गुजरात के बाकी हिस्‍सों, पंजाब, हरियाणा और दिल्‍ली में मानसून के आगे बढ़ने के लिए अनुकूल परिस्थितियां अभी नहीं हैं। अगले 5 दिन में यह उत्‍तर प्रदेश के कुछ हिस्‍सों में पहुंच सकता है। तो चलिए जानते हैं मौसम का हाल।

स्काईमेट वेदर के मुताबिक अगले 24 घंटों के दौरान, बिहार, पूर्वी उत्तर प्रदेश, गंगीय पश्चिम बंगाल, छत्तीसगढ़ के कुछ हिस्सों, पूर्वोत्तर मध्य प्रदेश, दक्षिण कोंकण और गोवा, तटीय कर्नाटक और केरल के कुछ हिस्सों में मध्यम से भारी बारिश हो सकती है। मध्य प्रदेश के बाकी हिस्सों, तेलंगाना के कुछ हिस्सों, विदर्भ के कुछ हिस्सों, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों और तेलंगाना के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश के साथ एक दो स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है।

दिल्ली में आज बारिश होने का अनुमान है, मगर मानसून के आने में अभी लंबा वक्त लगेगा। मौसम विभाग ने कहा कि पश्चिमी विक्षोभ के कारण उत्तरी-पश्चिमी भारत में मानसून की तेजी में कमी आई है और उसे दिल्ली पहुंचने में सात से 10 दिन का समय लग सकता है। मौसम कार्यालय ने बुधवार को आसमान में आमतौर पर बादल छाए रहने के साथ हल्की से मध्यम बारिश और गरज के साथ 40-50 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलने का अनुमान जताया है। मौसम विभाग ने पहले अनुमान लगाया था कि मानसून निर्धारित समय से 12 दिन पहले करीब 15 जून के दिल्ली पहुंचेगा। सामान्य तौर पर मानसून 27 जून तक दिल्ली पहुंचता है और आठ जुलाई तक पूरे देश में छा जाता है। पिछले साल मानसून 25 जून को दिल्ली पहुंचा था और 29 जून तक पूरे देश में छा गया था।

बिहार में मानसून की एंट्री हो चुकी है। बारिश का दौर थमने का नाम नहीं ले रहा है। स्थिति ये हो गई है कि गंडक समेत सूबे की प्रमुख नदियों का जलस्तर तेजी से बढ़ता जा रहा है। जिससे पश्चिमी चंपारण समेत सूबे कई जिलों में बाढ़ जैसे हालात (Bihar Flood) उत्पन्न हो गए हैं। कई गांवों और शहर के मुहल्लों में जलजमाव की स्थिति आ गई है। वाल्मीकिनगर गंडक बराज से करीब साढ़े तीन लाख क्यूसेक पानी का डिस्चार्ज गंडक नदी में किया गया। इससे गंडक किनारे बसे कई गांवों में पानी घुस गया।

मौसम विभाग की ओर से अगले 48 घंटे के लिए चेतावनी जारी की गई है। उत्तर बिहार के कई जिलों में भारी से अति भारी वर्षा होने की संभावना है। बिजली चमकने या गड़गड़ाहट की आवाज की आशंका जताई गई है।  इस दौरान लोगों को सावधानी बरतने की सलाह दी गई है। मौसम विभाग ने अपने अलर्ट में बताया है कि ‘मौसम की वर्तमान गतिविधि एवं संख्यात्मक मौसम मॉडल के आकलन के अनुसार, राज्य के अधिकांश जिलों में कहीं-कहीं वज्रपात के साथ भारी वर्षा तथा राज्य के उत्तरी भाग के जिलों और गंगा नदी से सटे जिलों में कहीं-कहीं भारी से अति भारी वर्षा दिनांक 15 जून 2021 से अगले 48 घंटों के बीच होने की प्रबल संभावना है। मौसम विभाग ने अपने अलर्ट में आगे बताया है कि इसके कारण जान-माल की हानि होने के साथ-साथ निचले स्तरों में जलजमाव, यातायात बाधित, बिजली सेवा एवं नदी के जलस्तर में बढ़ोतरी होने की आशंका है।

उत्तराखंड के पर्वतीय जिलों में अगले 24 घंटे में भारी बारिश की आशंका है। इसे लेकर मौसम विभाग ने येलो अलर्ट जारी किया है। कुछ जगह गर्जन के साथ आकाशीय बिजली चमकने के भी आसार हैं। देहरादून जिले में कहीं-कहीं बारिश के साथ 30 से 40 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं। मौसम विज्ञान केंद्र विभाग के अनुसार, बुधवार को राज्य के उत्तरकाशी, चमोली, रुद्रप्रयाग, नैनीताल और पिथौरागढ़ में कहीं-कहीं भारी बारिश की संभावना है।

बिहार में जहां बहुत भारी बारिश तो उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखंड, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, ओडिशा और महाराष्ट्र में बारिश होने की संभावना है। इस दौरान गरज के साथ 50-60 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलने का भी अनुमान है।

मौसम विभाग के अनुसार 17 जून को बिहार, छत्तीसगढ़, झारखंड, असम, ओडिशा समेत महाराष्ट्र में भारी बारिश का पूर्वानुमान है। इस दौरान गरज के साथ 30-40 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलने का भी अनुमान है।

बिहार, झारखंड, छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश, मेघालय समेत महाराष्ट्र में बहुत तेज बारिश का पूर्वानुमान है।

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.