गोरखपुर-लखनऊ फोरलेन पर संतकबीर नगर में बड़ा सड़क हादसा, एक ही परिवार के 04 सदस्यों की मौत…

51

संतकबीर नगर: गोरखपुर-लखनऊ राष्ट्रीय राजमार्ग पर डीघा के पास रविवार की सुबह खड़ी ट्रक से पिकअप टकरा गई। इस हादसे में  पिकअप में सवार एक ही परिवार के चार सदस्यों की घटनास्थलपर ही मौत हो गई। वहीं पिकअप चालक घायल हो गए। इन्हें उपचार के लिए जिला अस्पताल भेजा गया है।

देवरिया जिले के रुद्रपुर थानाक्षेत्र के मांगा कोडर गांव के निवासी संदीप पंजाब के लुधियाना में जीविकोपार्जन करते हैं। वह यहां पर पत्नी, बच्चों व अन्य लोगों के साथ रह रहे थे। कोरोना कर्फ्यू काल में जीविका प्रभावित हुई तो वह अपनी स्वयं की पिकअप में बेटे अमन व अभिमन्यु, पत्नी गुड़िया तथा सास तारा देवी के संग अपने गांव जा रहे थे। पिकअप स्वयं संदीप चला रहे थे। वह रविवार की सुबह करीब साढ़े पांच बजे गोरखपुर-लखनऊ राष्ट्रीय राजमार्ग पर डीघा के पास पहुंचे थे।

हल्की हवा के झोंके के बीच संदीप को झपकी आ गई। इसकी वजह से यहां पर सड़क के किनारे खड़ी ट्रक से पिकअप टकरा गई। पिकअप बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया। इस हादसे में इनके बेटे अमन व अभिमन्यु, पत्नी गुड़िया तथा सास तारा देवी की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। वहीं पिकअप चालक संदीप को भी चोटें आई है। वह बाल-बाल बच गए। सूचना मिलने पर पर इंडस्ट्रियल  एरिया पुलिस चौकी के इंचार्ज के अलावा कोतवाली प्रभारी मनोज कुमार पाण्डेय घटनास्थल पर पहुंचे। इसकी सूचना मृतक के परिवार के सदस्यों को दी।

देवरिया के रुद्रपुर कोतवाली के मागा कोडर में ब्रह्मभोज में हिस्सा लेने आ रहे चार लोगों की सड़क हादसे में मौत होने की सूचना गांव पहुंचते ही मातम छा गया। चारो तरफ चीत्कार ही सुनाई देने लगा। स्वजन को रोता देख वहां मौजूद लोगों की आंखें भर आई। परिवार के सदस्य हादसे की सूचना के बाद संतकबीर जनपद के लिए निकल गए।

गांव के गुड़िया देवी का पूरा परिवार पंजाब में रहता था, देवर सुनील को 26 मई को ब्रह्मभोज था, जिसमें हिस्सा लेने के लिए गुड़िया अपनी मां तारा देवी, दोनों बेटों व पति के साथ गांव आ रही थी, सड़क हादसे में संतकबीर नगर जनपद में गुड़िया, उनकी मां व दोनों बेटों की मौत हो गई। मौत की सूचना आते ही परिवार में मातम छा गया। ग्राम प्रधान माया देवी व उनके पति अमित यादव ने वाहन की व्यवस्था कर स्वजन को संतकबीर नगर  के लिए रवाना किया। मृतक के घर पर परिवार की महिलाओं को ढाढस बंधाया।

सुनील की मौत के बाद से ही उस परिवार में मातम छाया हुआ था, अचानक परिवार के चार और लोगों की भी सड़क हादसे में मौत की सूचना मोबाइल की घंटी लेकर आई तो परिवार के लोग क्या, पड़ोसी भी आंसू को नहीं रोक सके।

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.