कोरोना के बीच पुरी में निकलेगी रथयात्रा, अहमदाबाद में हुई शुरुआत…

0 36

गुजरात: हर साल की तरह इस बार भी भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा निकलेगी, लेकिन कड़ी शर्तो के साथ। सुप्रीम कोर्ट ने कल कुछ प्रतिबंधों के साथ कोरोना वायरस महामारी के बीच वार्षिक रथ यात्रा को आयोजित करने की अनुमति दी है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक 500 से अधिक लोगों को रथ खींचने की अनुमति नहीं दी जाएगी। रथयात्रा के दौरान पुरी शहर में कफ्र्यू लागू रहेगा। कफ्र्यू सोमवार की रात आठ बजे से लागू किया जाए और शहर में प्रवेश के सारे प्वाइंट जैसे एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन और बस अड्डे बंद रहेंगे।

पुरी में भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा निकालने के लिए पुजारी पहुंच गए हैं। सुप्रीम कोर्ट ने कल कुछ प्रतिबंधों के साथ इस वार्षिक रथ यात्रा को निकालने की अनुमति दी थी।

अहमदाबाद में भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा शुरू हो गई है। कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए गुजरात हाई कोर्ट ने रथयात्रा पर रोक का आदेश दिया था, जिसके बाद मंदिर परिसर के अंदर ही रथयात्रा निकालने का फैसला किया गयाहै। इस बार रथयात्रा मंदिर परिसर में ही सात फेरे लगाएगी।

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी रथयात्रा के लिए सुबह अहमदाबाद के श्री जगन्नाथजी मंदिर परिसर में पहुंचे। गृहमंत्री अमित शाह हर साल भगवान जगन्नाथ की मंगला आरती में सुबह चार बजे शामिल होते हैं। वह इस बार भी सपरिवार आरती में शामिल हुए।

सीएम रुपाणी ने कहा कि उच्च न्यायालय में कल देर रात तक रथयात्रा को लेकर सुनवाई की, लेकिन कोरोना वायरस के कारण रथयात्रा की अनुमति नहीं मिल सकी। मैं मंदिर के ट्रस्टी और महंत को स्थिति को समझने और मंदिर परिसर के अंदर रथ यात्रा की व्यवस्था करने के लिए धन्यवाद देता हूं।

वही, पुरी के जगन्नाथ मंदिर में रथयात्रा के लिए तैयारियां चल रही हैं। रथयात्रा में शामिल होने वाले सभी लोगों का कोरोना टेस्ट होगा और निगेटिव पाए जाने वालों को ही रथयात्रा में आने की इजाजत होगी।

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.