उत्तर प्रदेश में अब 7221 सक्रिय केस, 24 घंटे में 340 मिले नए संक्रमित…

18

लखनऊ: कोरोना वायरस संक्रमण के मामले में सर्वाधिक आबादी वाले राज्य उत्तर प्रदेश की तस्वीर कम जनसंख्या वाले राज्यों के मुकाबले बेहतर है। मंगलवार को प्रदेश में कोरोना के 340 नए रोगी मिले और 1104 मरीज स्वस्थ हुए। अब तक कुल 17.03 लाख लोग संक्रमित हुए हैं, जिसमें 16.74 लाख रोगी ठीक हो चुके हैं। मंगलवार को 57 मरीजों की मौत हुई। प्रदेश में अब तक कुल 21,914 लोगों ने कोरोना से जान गंवाई है। अब सक्रिय केस 7221 हैं।

अब यदि कम आबादी वाले राज्यों में संक्रमण की स्थिति पर नजर दौड़ाई जाए तो महाराष्ट्र में सक्रिय केस 1.47 लाख हैं। कर्नाटक में 1.72 लाख, केरल में 1.13 लाख और तमिलनाडु में 1.36 लाख एक्टिव केस हैं। उत्तर प्रदेश में अब कोरोना के जितने कुल रोगी हैं, लगभग उतनी ही संख्या में इन राज्यों में प्रतिदिन नए रोगी मिल रहे हैं। यूपी में अब तक सर्वाधिक 5.38 करोड़ लोगों की कोरोना जांच की जा चुकी है। देश में सबसे ज्यादा कोरोना जांच करने वाला राज्य उत्तर प्रदेश है। अब तक 17.20 करोड़ लोगों की सर्विलांस टीमों की मदद से स्क्रीनिंग की जा चुकी है। पाजिटिविटी रेट 0.1 प्रतिशत है।

यूपी में अब 51 जिले ऐसे हैं, जहां कोरोना संक्रमितों की संख्या 100 से कम है। कौशांबी में सिर्फ एक रोगी है। हमीरपुर में तीन और महोबा में पांच मरीज हैं। अब सबसे ज्यादा 418 मरीज लखनऊ में हैं।

देश में सर्वाधिक 24 करोड़ की आबादी वाले राज्य यूपी में दिसंबर तक सभी नागरिकों को टीका लगाए जाने का लक्ष्य तय किया गया है। 31 अगस्त तक 10 करोड़ लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी। फिलहाल अभी 18 से 44 वर्ष की आयु और 45 पार उम्र वालों को तेजी से टीका लगाया जा रहा है। बच्चों को कोरोना से बचाने के लिए वैक्सीन का ट्रायल चल रहा है। इसे मंजूरी मिलने के बाद उन्हें भी तुरंत टीका लगाया जाएगा। प्रदेश में अब तक कुल 2.83 करोड़ लोगों ने वैक्सीन लगवाई है।

अपर मुख्य सचिव (सूचना) नवनीत सहगल ने बताया कि टीकाकरण महाभियान के तहत जून में एक करोड़ और जुलाई में तीन करोड़ वैक्सीन लगाए जाने का लक्ष्य पहले ही निर्धारित किया गया था। अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस अभियान में और तेजी लाने के निर्देश दिए हैं। 31 अगस्त तक 10 करोड़ टीके लगाए जाएंगे। राज्य सरकार की ओर से सभी ग्रामीण क्षेत्रों के विकासखंडों और शहरी क्षेत्र में शहरी निकायों को कई भागों (क्लस्टर) में बांटा गया है। जुलाई से गांव-गांव टीमें जाएंगी और लोगों को बुलावा पर्ची देकर टीका लगवाने के लिए बुलाया जाएगा। पायलेट प्रोजेक्ट के तौर पर 17 जून से ही सभी जिलों के एक तिहाई विकासखंडों के चार क्लस्टर में यह अभियान शुरू किया जाएगा, ताकि टीकाकरण में आ रही अड़चनों को चिन्हित कर जुलाई से पूरी तेजी के साथ अभियान चलाया जाए। टीके को लेकर लोगों की भ्रांतियां दूर करने के लिए भी टीमें गठित की गई हैं।

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.