अमेरिका मदद को हुआ राजी तो चर्चा में आए डोभाल, जानें 24 घंटे में कैसे भारतीय विदेश नीति ने दिखाया कमाल…

39

देश में कोरोना महामारी की दूसरी लहर ने तबाही मचा रखी है। संकट के इस मुश्किल वक्त में पहले रोक लगाने के बाद अब अमेरिका ने भारत को वैक्सीन उत्पादन के लिए कच्चा माल देने का आश्वासन दे दिया है। अमेरिका ने यह भरोसा तब जताया, जब भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजित डोभाल की अपने अमेरिकी समकक्ष जैक सुलिवान के साथ बातचीत हुई। इसके बाद अजित डोभाल ट्विटर पर ट्रेंड करने लगे। 
अजित डोभाल ने अपने अमेरिकी समकक्ष जेक सुलिवन फोन पर बातचीत की। इसके बाद ही अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार और फिर राष्ट्रपति जो बाइडन ने भारत को कोविशील्ड वैक्सीन के लिए कच्चे माल की सप्लाई का वादा किया है।  व्हाइट हाउस की राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की प्रवक्ता एमिली होर्ने ने कहा कि जिस तरह भारत ने अमेरिका में उस समय सहायता भेजी थी, जब हमारे अस्पताल महामारी के शुरुआती दौर से जूझ रहे थे। इसी तरह अमेरिका भी जरूरत के इस समय में भारत की सहायता करने को प्रतिबद्ध है। भारत ने अमेरिका से कोविशील्ड टीके के उत्पादन के लिए कच्चे माल की आपूर्ति का अनुरोध किया था। होर्ने ने कहा कि भारत के अग्रिम मोर्च के कर्मियों और कोविड-19 मरीजों की सहायता के मद्देनजर अमेरिका ने कोविड जांच किट, वेंटिलेटर और पीपीई किट के अलावा अन्य उपकरण भारत को उपलब्ध कराने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि अमेरिका ऑक्सीजन उत्पादन एवं संबंधित वस्तुओं की आपूर्ति भारत को तत्काल उपलब्ध कराने के विकल्पों पर काम कर रहा है। अमेरिका की ओर से भारत को सहायता करने का आश्वासन दिए जाने के बाद से अजित डोभाल ट्विटर पर टॉप ट्रेंड कर रहे हैं। कई ट्विटर यूजर्स का कहना है कि जहां अजित डोभाल हैं, वहां राह है। अमेरिका को इनकार से इकरार तक लाने वाले अजित डोभाल की सोशल मीडिया पर जमकर तारीफ की जा रही है। वहीं कुछ यूजर्स ने लिखा, भारत के ‘जैम्स बॉन्ड’ ने फिर कर दिखाया।

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.